लम्हे प्रेम के – द्वितीय अध्याय

  मेरी अगली मंजिल वाराणसी थी और मुझे सुबह 6.45 बजे उड़ान भरनी थी। मैंने देखा कि अभी 3.45 बजे थे । सबसे बड़ी चुनौती अब सामान था, जहां मुझे हवाई अड्डे पर इसे समय पर प्राप्त करने के लिए हमेशा एक समस्या का सामना करना पड़ता था। मैं पहले की तुलना में अधिक अप्रभावी […]

 1,875 total views

लम्हे प्रेम के – पहला अध्याय

  ५ मई की रात थी, मैं उससे अनियोजित और अनिश्चित मुलाकात करने जा रहा था। दूसरा विचार जो मन मैं आ रहा था , क्या यह उससे मिलने का सही समय है, दिल ने कहा “हाँ; क्यों नहीं”। मैं स्पेन से यात्रा कर रहा था और वह पूरी रात फोन पर थी क्योंकि वह […]

 2,101 total views,  9 views today

काव्य

दोपहर के बैठे हो रही है शाम, कुछ न सुझा मेरे मन को आप चाहता हूँ लिखनाा पर ढँग नही है आप सोचता हूँ कुछ आएगी अक्ल मेरी खुल जाएगी काव्य प्रकाशित हो जाएगा, सबके मन को लुभाएगा शेख चिल्ली की तरह, देखता हूँ ख्वाब, कभी तो छप जाए मेरे लिखे काव्य, एक और बकवास, […]

 2,712 total views,  3 views today

नारी अरि न होत है !

वो शांत थी जब तक शांत थी , उसकी अप्रिय स्तिथि का अंदाजा किसी को न था , उन बेहोशी के दिनों में, उनके बीच कुछ सही नहीं था |   उसके गुस्से का भड़कना , उसकी आत्मा का तड़पना, सभी परीक्षाओं के बारे में वह समझ गई थी। भीतर से हासिल करने के बावजूद, […]

 4,506 total views,  9 views today

मुश्किल प्यार

    यह लम्हा मुझे दर्द और सहानुभूति से भर देता है, जब मेरी आत्मा पर तेरे धोखे के निशान महसूस होते हैं , तुझसे से लड़ने की मेरी इच्छा पर खुश होकर, उम्मीद के वो आखिरी लम्हे काफ़ी दूर होते है। मैं सभी यातनाओं और पीड़ाओं को सहर्ष सह लेता मगर , क्योंकि मेरे […]

 1,203 total views,  3 views today

~~~रूह~~~

  रूह कई जन्मों तक तरसी है मेरी चंद दिनों में प्यास तुम बुझा पाओगे नहीं चाहत है जिस आग की मुझे मेरे रहबर वो आग मेरे सीने में लगा पाओगे नहीं ग़ालिब और गुलज़ार जिस राह पर गए हैं गुज़र उस राह पर तुम मुझको ला पाओगे नहीं तेरे नाम से इश्क की शमा […]

 2,031 total views

“वैलेंटाइन दिवस” – एक विचार #MyFriendAlexa

  14 फरवरी को वार्षिक रूप से संत वेलेंटाइन दिवस के रूप में जाना जाता है। वेलेंटाइन डे को दुनिया भर के कई क्षेत्रों में रोमांस और रोमांटिक प्रेम के उल्लेखनीय सांस्कृतिक, धार्मिक और व्यावसायिक उत्सव के रूप में जाना जाता है, हालांकि यह किसी भी देश में सार्वजनिक अवकाश नहीं है। नेट पर बहुत […]

 2,469 total views,  3 views today