नारी अरि न होत है !

वो शांत थी जब तक शांत थी , उसकी अप्रिय स्तिथि का अंदाजा किसी को न था , उन बेहोशी के दिनों में, उनके बीच कुछ सही नहीं था |   उसके गुस्से का भड़कना , उसकी आत्मा का तड़पना, सभी परीक्षाओं के बारे में वह समझ गई थी। भीतर से हासिल करने के बावजूद, […]

4,209 total views, 3 views today

मुश्किल प्यार

    यह लम्हा मुझे दर्द और सहानुभूति से भर देता है, जब मेरी आत्मा पर तेरे धोखे के निशान महसूस होते हैं , तुझसे से लड़ने की मेरी इच्छा पर खुश होकर, उम्मीद के वो आखिरी लम्हे काफ़ी दूर होते है। मैं सभी यातनाओं और पीड़ाओं को सहर्ष सह लेता मगर , क्योंकि मेरे […]

1,035 total views, no views today

~~~रूह~~~

  रूह कई जन्मों तक तरसी है मेरी चंद दिनों में प्यास तुम बुझा पाओगे नहीं चाहत है जिस आग की मुझे मेरे रहबर वो आग मेरे सीने में लगा पाओगे नहीं ग़ालिब और गुलज़ार जिस राह पर गए हैं गुज़र उस राह पर तुम मुझको ला पाओगे नहीं तेरे नाम से इश्क की शमा […]

1,671 total views, no views today

“वैलेंटाइन दिवस” – एक विचार #MyFriendAlexa

  14 फरवरी को वार्षिक रूप से संत वेलेंटाइन दिवस के रूप में जाना जाता है। वेलेंटाइन डे को दुनिया भर के कई क्षेत्रों में रोमांस और रोमांटिक प्रेम के उल्लेखनीय सांस्कृतिक, धार्मिक और व्यावसायिक उत्सव के रूप में जाना जाता है, हालांकि यह किसी भी देश में सार्वजनिक अवकाश नहीं है। नेट पर बहुत […]

2,109 total views, no views today

ह्रदय की कल्पना : 2013- 2019 #MyFriendAlexa

  मेरा मानना ​​है कि अगर हम किसी से मिलते हैं तो उसके पीछे एक कारण है और एक कहानी बनती है और जब कोई आपके जीवन में आता है जैसे कहीं से हवा का झोंका आता है और आपके पूरे जीवन को बदल जाता है इसे चमत्कार कह सकते हैं ।   “कल्पना “वह […]

1,125 total views, no views today

Book Review : Iztiraar By Akash Rumade

  Description ‘Growing old is inversely proportional to the number of friends you make or have… Get-together has just become a gathering of people discussing how much one has climbed the multi-dimensional social ladder.’ Iztiraar is a compilation of 9 good short stories written by Akash Rumade. Most of the stories are set in the […]

1,059 total views, 3 views today

कविता चांद सितारों की

क्या आपने कभी उल्का बौछारें देखी हैं? यह उल्का बौछार हर साल होती है क्योंकि पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा करते हुए क्षुद्रग्रह (Asteroid) से छोड़े गए मलबे से होकर गुजरती है। जैसे ही क्षुद्रग्रहों से निकलने वाला मलबा पृथ्वी के वायुमंडल के संपर्क में आता है, वे भड़क उठते हैं और पूरे आकाश में तेज […]

461 total views, no views today