My Debut Experience With #MyFriendAlexa by @Blogchatter

I want to learn a new thing every time I do a blogging challenge. Blogging is a platform that allows me to learn and think unconventionally. I have great faith in “Blogchatter” – a platform that supports bloggers from every genre. I am happy to connect with some amazing bloggers who helped me at every […]

243 total views, no views today

वान्या – एक योद्धा की प्रेम कहानी

वान्या एक छोटे से गांव की लड़की थी, जिसमें रानी मोहिनी और राजा हर्षवर्धन ने अपने बेटे राजकुमार अजातशत्रु के साथ शासन करते थे| वान्या के काले काले बाल, नीली आँखें थीं और वह बहुत मजबूत थी। जब वह छह साल की थी तब उसके माता-पिता की मृत्यु हो गई थी और तब से वह […]

591 total views, no views today

लम्हे प्रेम के – अंतिम अध्याय

    “बैठो प्लीज़, क्या हुआ।” लंबी ख़ामोशी टूटी और मेरी आँखें उस आवाज़ का अनुसरण कर रही थीं जो उस मौन के माध्यम से आई थी। वो आवाज़ जिसने हमेशा मेरा दिल मुझसे निकाल लिया। आवाज जो अब पहली बात थी जो मैंने हमेशा हर सुबह सुनी थी, मेरे पास थी बस कुछ कदम […]

699 total views, no views today

लम्हे प्रेम के – तृतीय अध्याय

मैंने पूछा “आप कहाँ थे?”, उसने जवाब दिया, “ओह सॉरी , मैं सो गयी थी” वह बहुत तनाव में थी और खुद को दोषी महसूस कर रही थी। मैंने कहा “कोई बात नहीं, हम पास ही हैं, लेकिन हमें नहीं पता कि हम कहाँ हैं। उसने मुझे टैक्सी ड्राइवर को फोन देने के लिए कहा, […]

330 total views, no views today

लम्हे प्रेम के – द्वितीय अध्याय

  मेरी अगली मंजिल वाराणसी थी और मुझे सुबह 6.45 बजे उड़ान भरनी थी। मैंने देखा कि अभी 3.45 बजे थे । सबसे बड़ी चुनौती अब सामान था, जहां मुझे हवाई अड्डे पर इसे समय पर प्राप्त करने के लिए हमेशा एक समस्या का सामना करना पड़ता था। मैं पहले की तुलना में अधिक अप्रभावी […]

1,026 total views, no views today

लम्हे प्रेम के – पहला अध्याय

  ५ मई की रात थी, मैं उससे अनियोजित और अनिश्चित मुलाकात करने जा रहा था। दूसरा विचार जो मन मैं आ रहा था , क्या यह उससे मिलने का सही समय है, दिल ने कहा “हाँ; क्यों नहीं”। मैं स्पेन से यात्रा कर रहा था और वह पूरी रात फोन पर थी क्योंकि वह […]

1,209 total views, 3 views today

काव्य

दोपहर के बैठे हो रही है शाम, कुछ न सुझा मेरे मन को आप चाहता हूँ लिखनाा पर ढँग नही है आप सोचता हूँ कुछ आएगी अक्ल मेरी खुल जाएगी काव्य प्रकाशित हो जाएगा, सबके मन को लुभाएगा शेख चिल्ली की तरह, देखता हूँ ख्वाब, कभी तो छप जाए मेरे लिखे काव्य, एक और बकवास, […]

1,671 total views, 6 views today