वो नारी है

न बँटी मिठाई उसके होने की, न दी किसीको बख़्शीश, न मुस्कुराहट किसी के चेहरे पर, सुनाई दी बस माँ की चीख, न छिक के दूध पिया कभी माँ का, न मिली कभी छाती की ठंडक, न मिला पिता के नाम का गुरूर, आत्मा बन गई शरीर में बंधक, न बांधी राखी कलाई पर बहन […]

120 total views, no views today

काव्य

दोपहर के बैठे हो रही है शाम, कुछ न सुझा मेरे मन को आप चाहता हूँ लिखनाा पर ढँग नही है आप सोचता हूँ कुछ आएगी अक्ल मेरी खुल जाएगी काव्य प्रकाशित हो जाएगा, सबके मन को लुभाएगा शेख चिल्ली की तरह, देखता हूँ ख्वाब, कभी तो छप जाए मेरे लिखे काव्य, एक और बकवास, […]

1,671 total views, 6 views today

नारी अरि न होत है !

वो शांत थी जब तक शांत थी , उसकी अप्रिय स्तिथि का अंदाजा किसी को न था , उन बेहोशी के दिनों में, उनके बीच कुछ सही नहीं था |   उसके गुस्से का भड़कना , उसकी आत्मा का तड़पना, सभी परीक्षाओं के बारे में वह समझ गई थी। भीतर से हासिल करने के बावजूद, […]

2,907 total views, 15 views today

मुश्किल प्यार

    यह लम्हा मुझे दर्द और सहानुभूति से भर देता है, जब मेरी आत्मा पर तेरे धोखे के निशान महसूस होते हैं , तुझसे से लड़ने की मेरी इच्छा पर खुश होकर, उम्मीद के वो आखिरी लम्हे काफ़ी दूर होते है। मैं सभी यातनाओं और पीड़ाओं को सहर्ष सह लेता मगर , क्योंकि मेरे […]

598 total views, 6 views today

~~~रूह~~~

  रूह कई जन्मों तक तरसी है मेरी चंद दिनों में प्यास तुम बुझा पाओगे नहीं चाहत है जिस आग की मुझे मेरे रहबर वो आग मेरे सीने में लगा पाओगे नहीं ग़ालिब और गुलज़ार जिस राह पर गए हैं गुज़र उस राह पर तुम मुझको ला पाओगे नहीं तेरे नाम से इश्क की शमा […]

1,002 total views, 6 views today

DARKNESS

  There is a road that is lonely, with living dead that don’t make a sound The heart, moving through a burrow has just darkness, darkness, and more darkness like a wreckage. We depart from this life, going deep into ourselves, drowning inside our hearts, Where the soul lived in the shell of the skin. […]

381 total views, no views today